Income Tax Kya Hai Hindi | How to Pay Income Tax Online

Income Tax Return Kya Hai Hindi, Types of Income Tax in Hindi, Calculation of Income Tax in Hindi, How to Pay Income Tax In Hindi: दोस्तों, आपने इनकम टैक्स के बारे में तो जरूर सुनाऊंगा आप ही सोचते होंगे कि यह टैक्स कहां से आता है? कहां जाता है? यह पैसा कहां यूज़ होता है ?जी हां दोस्तों इस आर्टिकल में हम आपसे आपके द्वारा इनकम टैक्स से संबंधित सभी प्रश्नों का उत्तर देने वाले हैं। यदि आप इनकम टैक्स से संबंधित सभी जैसे- Income Tax, Income Tax Kya Hai in Hindi, वित्तीय वर्ष 2020-2021 में Income Tax स्लैब क्या है?, Types Of Income Tax in Hindi, Calculation of Income Tax in Hindi, How to Pay Income Tax In Hindi, Income Tax Exemption in Hindi आदि की जानकारी लेना चाहते हैं। तब हमारा आपसे अनुरोध है कि हमारे इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Income Tax Return Kya Hai Hindi, Types of Income Tax in Hindi, Calculation of Income Tax in Hindi, How to Pay Income Tax In Hindi

आपके दिमाग में यह सवाल जरूर आता होगा कि सरकार द्वारा कराए जाने वाले सभी गांव के लिए पैसे कहां से आते होंगे? जी हां दोस्तों हम जब छोटे होते हैं। तब हमारे दिमाग में यह सवाल जरूर आता है। इसका जवाब यह है कि सरकार हमारे द्वारा दिए गए इनकम टैक्स के माध्यम से ही हमें सभी सुविधाएं देती हैं। अब सवाल यह पैदा होता है। कि इनकम टैक्स क्या होता है ?इनकम टैक्स वह होता है जो हिस्सा हम अपने देश को चलाने के लिए अपनी कमाई में से देते हैं। कर के रूप में देने वाला यह है हिस्सा सरकार द्वारा तय किया गया होता है। तथा यह सरकार तक कैसे पहुंचेगा? यह सभी प्रक्रिया सरकार द्वारा की जाती है। हम अपने घर में प्रत्येक इस्तेमाल की जाने वाली सभी चीजों का प्रत्यक्ष या फिर अप्रत्यक्ष माध्यम से कर देते हैं।

Income Tax Return Kya Hai in Hindi

दोस्तो आज हम जानेगें इनकम टैक्स के बारे में इनकम टैक्स किया है। इनकम टैक्स यानि आयकर जैसा कि इसके नाम से ही इस्पशट होता है। ये हमारी अमदानी पर लगाने वाला एक टैक्स होता है। हर साल हमें अपनी आमदनी का हिस्सा सरकार को देना पड़ता है। '' सरकार हमसे ये हिस्सा यानि टैक्स को क्यू वसुल्ती है।'' सबसे पहले ये जानते हैं। बहुत बार लोगो के अंतर मन में ये सवाल आता है। कि काम में कर रहा हूँ । कामा में रहा हूँ फिर भी अपनी कमाई में से हिस्सा आयकर को क्यूँ दू हर व्यक्ति ये जनना चाहता है।

ये भी पढ़े – ATM Full Form in Hindi | एटीएम के प्रकार – ATM कैसे काम करता हैं? 

''आपको बता दे सनं 1860 में अंग्रेजो ने सबसे पहले बजट को पेश किया और उसी बजट में पहली बार Income Tax (आयकर ) को शामिल किया। तब जो व्यक्ति 200 रूपये तक की सालाना कमाई करता था। उसे इनकम टैक्स से बाहर रखा जाता था। Income टैक्स को सही समय पर करना प्रत्येक व्यक्ति विशेष और बिज़नेस का उत्तरदायित्व होता है। आय का अर्थ केवल वेतन के रूप में अर्जित धन नहीं है। इसमें गृह संपत्ति से आय, व्यवसाय से लाभ, पेशे से लाभ (जैसे बोनस), पूंजीगत लाभ आय और 'अन्य स्रोतों से आय' भी शामिल है। सरकार अक्सर कुछ छूट भी प्रदान करती है। जैसे कि लगाए जाने वाले कर की गणना से पहले किसी व्यक्ति की आय से विभिन्न कटौती की जाती है।

''आयकर रिटर्न'' (आईटीआर) फॉर्म किसी व्यक्ति के आयकर की गणना का आधार है। यह एक व्यक्ति की स्थिति, उनके राजस्व के सभी स्रोतों, कटौतियों और अंत में, देये कर या कर वापसी, यदि कोई हो, जो इसको दर्शाने वाला एक विवरण है।

वित्तीय वर्ष 2020-2021 में Income Tax स्लैब क्या है?

मैं आयकर देने की शुरुआत 2.5 लाख से सुरुचि किंतु इस वर्ष के बाद इससे बढ़कर 5 लाख कर दिया गया। इसी वर्ष सभी सालाब में बदलाव किए गए थे। 5 लाख से शुरुआत होने से माधियम वर्ग के लोगों को बहुत राहत मिली थी। यहां पर सेक्शन 87 A को लागु कर दिया जाता है। जिससे कर्मचारी को 2 . 5 लाख से लेकर 5 लाख तक के बीच में छूट मिल जाती है। वित्तीय वर्ष 2019- 2020 मैं आयकर देने की लिमिट को तीन लाख किया गया। 2021 वर्ष में 1 फरवरी में पेश किए गए बजट मैं केंद्र सरकार द्वारा 75 साल के ऊपर लोगों को किसी भी प्रकार का आयकर ना देने की बात कही हैा.

ये भी पढ़े – TOP 10 Online Learning Hubs in India 2021 | Full Details 

इनकम टैक्स स्लैब एक व्यक्ति जिस आयकर दर का भुगतान करता है। वह उस स्लैब पर निर्भर करता है जिसमें वे आते हैं। सरकार ने आय को स्लैब में वर्गीकृत किया है। जैसे - 250,000 रुपये तक, 250,000 रुपये से 5,00,000 रुपये, 5,00,000 रुपये से 1 मिलियन रुपये से अधिक 1 एक अरब। आयु समूहों के आधार पर अलग-अलग स्लैब की दरें भिन्न हो सकती हैं।अगर आपकी आमदनी इनकम टैक्स के दायरे में आती है। तो आपको इस पर अपने स्लैब के हिसाब से टैक्स चुकाना पड़ता है। एक बार आमदनी की गणना करने और उससे जरूरी खर्च घटाने के बाद नेट आमदनी पर लागू टैक्स स्लैब के हिसाब से आपको टैक्स चुकाना पड़ता है।

साझेदारी फर्म -कोई भी साझेदारी फर्म 30% कर देने के अंतर्गत आती है। और उन पर अधिभार कर लगाया जाता है। यदि उस फर्म की आय 1 करोड़ से अधिक है। तो अधिभार कर कुल आयकर का 12 पर्तिशत देना होता है।

Types of Income Tax in Hindi

उपरोक्त दी गई जानकारी के माध्यम से हमने आपको यह बताने की कोशिश की है इनकार कि आप किस प्रकार से अपना इनकम टैक्स को दे सकते हैं इसके साथ साथ ही निम्नलिखित में हमने आपको आपके द्वारा पूछे गए इच्छुक प्रश्न की जानकारी दी है की आप इनकम टैक्स कितने प्रकार का होता है। साधारणतः इनकम टैक्स दो प्रकार के होते हैं। जिनको हम प्रत्यक्ष कर तथा दूसरे को अप्रत्यक्ष कर के नाम से जानते हैं तो डायरेक्ट इनडायरेक्ट टैक्स कहा जाता है।

प्रत्यक्ष कर

वह कर जो सीधा सरकार को दिया जाता है। भारतीय नागरिक दुवारा सीधे सरकार द्वारा किया जाता है। उसे प्रत्यक्ष कर कहते हैं इस कर में जैसे - कैपिटल गैंस ,सिक्योरिटीज ट्रांजैक्शन टैक्स ,आदि आते हैं। इसका उपयोग सरकार द्वारा अपनी गतिविधि से देश के नागरिकों के बेहतर से बेहतर सुविधाएं देने के लिए किया जाता है। इसके साथ ही देश के अन्य कामों के लिए जितनी भी सरकारी कर्मचारियों को सैलरी मिलती है। उन सब के लिए इसी का उपयोग किया जाता है। इस कर के माध्यम से ही सरकार द्वारा मेडिकल और शिक्षा जैसे कार्यक्रमों में पैसा खर्च करती है।

अप्रत्यक्ष कर

यह कर सीधे सरकार को नहीं पहुंचाया जाता सेवाओं और उत्पादों पर लगाए जाने वाले कर को अप्रत्यक्ष कर कहते हैं। जिसको अब हम जीएसटी के नाम से जानते हैं। जी हां दोस्तों सभी उत्पादों पर जो भी कर हम जीएसटी के रूप में अदा करते हैं वह अप्रत्यक्ष कर होता है। इस कर का एक हिस्सा राज्य सरकार को दूसरा हिस्सा केंद्र सरकार को जाता है। दोस्तों यह कर आपके द्वारा खरीदी गई हर चीज पर आपको देना पड़ता है। जिसको हम सब आज के दौर में जीएसटी के नाम से जानते हैं।

Calculation of Income Tax in Hindi

भारत की वित्त मंत्री मंत्री निर्मला सीतारमण जी ने वर्ष 2021 में निम्नलिखित आधार पर इनकम टैक्स देने की घोषणा की है। जो कि इस प्रकार है कि-

ये भी पढ़े – CCTV Full Form in Hindi | CCTV कितने प्रकार के होते है? 

नई टैक्स व्यवस्था में 5 से 7.5 लाख रुपये तक की सालाना आय पर इनकम टैक्स रेट को 10 % कर दिया गया है। 7.5 लाख से 10 लाख रुपये तक की सालाना इनकम वालों के लिए आयकर की दर को 15 % कर दिया गया है। इसके अलावा 10-12.5 लाख रुपये तक की आय वालों पर अब 20 % और 12.5 लाख रुपये से लेकर 15 लाख रुपये तक की आय वालों पर 25 की दर से टैक्स लगेगा. 15 लाख से ज्यादा की आय पर टैक्स रेट 30 % रहेगी। (Income Tax Return Kya Hai Hindi, Types of Income Tax in Hindi, Calculation of Income Tax in Hindi, How to Pay Income Tax In Hindi)

Income Tax Exemption in Hindi

यह भारत सरकार द्वारा दी गई भारत के नागरिकों को एक प्रकार की बहुत बड़ी सुविधा है। क्योंकि इस सुविधा के माध्यम से बहुत से ऐसे लोग हैं जिनसे टैक्स नहीं लिया जाता। लिया जाता है परंतु थोड़ा सा लिया जाता है। परंतु अधिक सीमा पर काफी हद तक माफ कर दिया जाता है। परंतु इसकी कुछ सीमा है जैसे यदि आपकी आय ढाई लाख रुपए से कम है। तब आप को किसी भी प्रकार का टैक्स नहीं देना है। यह एक एग्जाम एक्सेम्पशन द्वारा दी गई लिमिट होती है। इसके साथ ही एक यह भी सुविधा दी गई है। कि आप का टैक्स कभी भी - में नहीं जाएगा। यदि ऐसा होता है। तब आपके रिबेट की लिमिट घटा दी जाती है। और बचे हुए टेक्स्ट को बचे हुए पैसों में को जमा कर लिया जाता है।

How to Pay Income Tax In Hindi

अगर आपको नहीं पता कि ऑनलाइन इनकम टैक्स कैसे जमा करते हैं तो इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़ें. तो चलिए आपको स्टेप ब्य स्टेप बताते है।

ये भी पढ़े – Best Top 10 Paisa Kamane Wala App in Hindi

  • सबसे पहले आप गूगल पर जाए।
  • आपको गूगल पर सर्च करना है- डिपॉजिट इनकम टैक्स ऑनलाइन
  • फिर आपको किसी भी वेबसाइट पर जाकर क्लिक कर देना है ।
  • वेबसाइट पर क्लिक करने के बाद नीचे हो आपको लिखा मिलेगा make e payment आपको उस पर क्लिक करना है।
  • फिर आपका ऑप्शन आएगा पेमेंट ऑफ़ इनकम टैक्स और कॉरपोरट टैक्स आपको उस पर क्लिक कर देना।
  • उसके बाद इनकम टैक्स पेमेंट का तरीका चुने इससे आप नेट बैंकिंग और डेविड कार्ड के जरिए पेमेंट कर सकते हैं। इसके ऑप्शन में केनरा बैंक, आईसीआईसी बैंक, केवी से पेमेंट कर सकते हैं।
  • उसके बादआप इसमें कैप्चा कॉड डालें, जिससे आपको पता चल सके कि आपने इसको भरने में कोई गलती तो नहीं करी।
  • एक बार प्रोसीड बटन पर क्लिक करने के बाद आपकी स्क्रीन पर एक और नया पेज खुलेगा। यहां भी आपको यह पता चल जाएगा कि आपने जो सूचना इसमें भरी है ।क्या वह सही है या नहीं इसके बाद आप सबमिट टू द बैंक बटन पर क्लिक करिए।
  • इसके बाद आप बैंक की वेबसाइट पर पहुंच जाएंगे यहां आपको नेट बैंकिंग में लॉगइन करना होगा। अगर आप चाहते हैं तो डेबिट कार्ड के जरिए भी पेमेंट कर सकते हैं जैसा कि हमने आपको बताया था। इसके बाद आप टेस्ट की रकम डालने के बाद बाकी ओपोर्तुनिटीज़ पूरी करेंगे।
  • जब आप इसको सबमिट कर देंगे तो आपको एक रसीद मिलेगी। जिसमें आपके द्वारा चुकाए गए टैक्स की रकम बीएसआर कोड, चालान का सीरियल नंबर, चालान का तारीख, आदि शामिल होगी।

// Conclusion //

इस आर्टिकल में हमने आपको इनकम टैक्स (Income Tax Return Kya Hai Hindi, Types of Income Tax in Hindi, Calculation of Income Tax in Hindi, How to Pay Income Tax In Hindi) से संबंधित सभी जानकारी देने की कोशिश कीजिए। हमें आशा है कि आप के द्वारा इनकम टैक्स से संबंधित खोज को हमने इस आर्टिकल के माध्यम से समाप्त कर दिया होगा। इसके अतिरिक्त यदि आप अब भी कोई डाउट रहते हैं। तब आप हमारे कमेंट सेक्शन के माध्यम से कमेंट करके पूछ सकते हैं। हम तथा हमारी टीम आपकी सेवा में हमेशा तत्पर है।

Post a Comment

Previous Post Next Post